Indian general study  SET-9  Hindi  Objective Question

Indian general study  SET-9  Hindi  Objective Question

 

Indian general study  ” plays an important role for Exams like IAS, State PSC, SSC and other similar competitive exams. www.bkjobcenter.com presents a Complete set of Indian general study  Questions Answers in the form of Practice Sets.

For pdf  Click here

 

1. किसने एक रस्म से मुक्त, सरल “सत श्री अकाल” या भगवान और सत्य की पूजा पर विश्वास की स्थापना की?
A. दादू दयाल
B. गुरु नानक
C. श्री चैतन्य
D. गुरु गोविंद सिंह

Ans: B

2. निम्नलिखित कथनों में से कौन सा / भक्ति की शुरुआती परंपराओं के बारे में सही है?
A. पूजा के रूपों हेतु विकास के पाठ्यक्रम और कई मामलों में, कवि-संत नेताओं ऐसे नेताओं के रूप में उभरे जिन्होंने चारों ओर भक्तों के एक समुदाय को विकसित किया।
B. ब्राह्मण भक्ति के कई रूपों में देवताओं और भक्तों के बीच महत्वपूर्ण बिचौलिये बने रहे।
C. एक अलग स्तर पर, धर्म के इतिहासकारों ने अक्सर दो व्यापक श्रेणियों में भक्ति परंपराओं को वर्गीकृत किया: सगुण (विशेषताओं के साथ) और निर्गुण (विशेषताओं के बिना)।
D. उपरोक्त सभी
Ans: D

3. निम्नलिखित कथनों में कौन-सा कथन आलवार सन्त और नायनमार के बारे में सही है:
A. शुरूआत के कुछ भक्ति आंदोलन (छठी शताब्दी) आलवार सन्त (शाब्दिक रूप में , विष्णु की भक्ति करने वाले) और नायनमार (शिव के भक्त थे) के नेतृत्व में चलाए गए थे।
B. वे घुमक्कड़ प्रवृत्ति के थे और घूमकर अपने देवताओं की स्तुति के लिए तमिल में भजन गाते थे।
C. अपनी यात्रा के दौरान आलवार और नायनमार ने अपने चुने हुए देवताओं के कुछ धार्मिक स्थलों की पहचान की।
D. उपरोक्त सभी।

Ans: D

4. निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा कथन आलवार सन्त और नायनमार के जाति व्यवस्था के प्रति नजरिए के बारे में सही है?
A. आलवार और नायनमार ने जाति व्यवस्था के खिलाफ विरोध के एक आंदोलन का नेतत्व किया था और ब्राह्मणों के वर्चस्व को कम किया या कम से कम प्रणाली में सुधार करने का प्रयास किया।
B. आलवार और नायनमार ने हमेशा समाज में जाति व्यवस्था का समर्थन किया।
C. आलवार और नायनमार की परंपराओं का महत्व कभी कभी उनकी रचनाओं के रूप में वेदों का महत्वपूर्ण संकेत देता था।
D. A और C दोनों

Ans: D

5. निम्नलिखित कथनों में से कौन सा अंदल के बारे में सही नहीं है।
A. अंदल एक अलवर औरत थी, उसकी रचनाओं की मुख्य विशेषताएं व्यापक रूप से गायन थी (और आज तक गायन जारी है)।
B. अंदल एक नयनार औरत थी, उसने समाज में शामिल प्रचलित जाति व्यवस्था में सहयोग नहीं किया।
C. अंदल ने स्वयं को विष्णु के भक्त के रूप में खुद को देखा; उनके छंद देवताओं के प्रति उनके प्यार का इजहार था।
D. अंदल ने खुद को कृष्ण की प्रेयसी के रूप में देखा; उनके छंद देवताओं के प्रति उनके प्यार का इजहार था।.

Ans: B

6. महिलाओं की भक्ति के संबंध में निम्न कथनों पर विचार करें?
A. शिव भक्त, कराईक्कल अम्माईयर ने अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए चरम तप का रास्ता अपनाया।
B. अंदल और कराईक्कल अम्माईयर ने अपने सामाजिक दायित्वों का त्याग किया, लेकिन एक नन बनने का विकल्प नहीं चुना
C. दोनों में कोई नहीं
D. उपरोक्त सभी

Ans: D

7. निम्नलिखित कथनों में से कौन निर्गुण की सही परिभाषा है?
A. यह एक निराकार परमेश्वर की अवधारणा है।
B. यह एक निराकार गुरु की अवधारणा है।
C. यह आध्यात्मिकता की अवधारणा है।
D. उपरोक्त में कोई भी नहीं

Ans: A

8. भक्ति आंदोलन के प्रभाव से संबंधित निम्न कथनों पर विचार करें:
I. भक्ति आंदोलन मुख्य के फलस्वरूप भक्ति कविता और संगीत के रूप में क्षेत्रीय / स्थानीय भाषाओं में हिंदू साहित्य में भारी बढ़ोत्तरी हुई।
II. भक्ति आंदोलन के फलस्वरूप भक्ति कविता और संगीत के रूप में क्षेत्रीय / स्थानीय भाषाओं में बौद्ध शास्त्र में भारी बढोत्तरी हुई।
उपरोक्त में से कौन सा कथन सही है?
A. केवल I
B. केवल II
C. I & II दोनों
D. उपरोक्त में कोई नहीं

Ans: A

9. निम्नलिखित कथनों में से कौन सा अलवर संतों के बारे में सही है?
A. बारह अलवर सन्त तमिल कवि-संतों थे, जो 6ठीं और 9 वीं शताब्दी के बीच रहते थे और ये अपने गीतों द्वारा ‘भावनात्मक भक्ति’ या विष्णु-कृष्ण के भक्ति के लिए जाने जाते थे।
B. 63 आलवार सन्त संत शिव भक्ति कवि थे, जो 5 वीं और 10 वीं शताब्दी के बीच रहते थे।
C. केवल B
D. A और B दोनों

Ans: A

10. भक्ति आंदोलन के संदर्भ में सही कथनों का चयन करें:
A. अलवर संतों के भजन संग्रह को दिव्य प्रबंध के रूप में जाना जाता है।
B. अलवर संन्यासी कविता / साहित्य तिरुमुरई के संकलन को “तमिल वेद” कहा जाता है।
C. A और B दोनों
D. उपरोक्त में कोई नहीं

Ans: A

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here